Prem Gaathaa
ek thaa kaale mu(n)h kaa bandar
vah bandar thaa baḌaa sikandar.

usakee dost thee ek chhuchhundar
vah thee chaand sareekhee sundar.

dono gaye baagh ke andar
unhonne khaayaa ek chukandar.

vahaa(n) khaḌaa thaa ek muchhandar
vah thaa pooraa mast kalandar.

usane maaraa aisaa mantar
baaग़ ban gayaa ek samundar.

usamen aayaa baḌaa bavanDar
paanee men bah gayaa muchhandar.

ek Daal par laTakaa bandar
bandar par chaḌh gayee chhchhundar.

itanee zor se koodaa bandar
ve dono aa gaye jalandhar.

taa-tei karake naachaa badanr
kathak karane lagee chhachhundar.

aise dono dost dhurandhar
ha(n)sate gaate rahe nirantar.
- Vinod Tewary
Dr. Vinod Tewary
Email : tewary@hotmail.com

प्राप्त: 1 Jan 2013. प्रकाशित: 20 Apr 2018

***
Vinod Tewary
's other poems on Kaavyaalaya

 Aisee Lagtee Ho
 Jeevan Deep
 Durga Vandana
 Pyaar Kaa Naataa
 Pravaasee Geet
 Prem Gaathaa
 Meri Kavita
 Mere Madhuvan
 Yaadgaaron Ke Saaye
इस महीने
'पाबंदियाँ'
बालकृष्ण मिश्रा


होंठ पर पाबन्दियाँ हैं
गुनगुनाने की।

निर्जनों में जब पपीहा
पी बुलाता है।
तब तुम्हारा स्वर अचानक
उभर आता है।

अधर पर पाबन्दियाँ हैं
गीत गाने की। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'थकी दुपहरी में पीपल पर'
गिरिजाकुमार माथुर


थकी दुपहरी में पीपल पर,
काग बोलता शून्य स्वरों में,
फूल आख़िरी ये बसन्त के
गिरे ग्रीष्म के ऊष्म करों में

धीवर का सूना स्वर उठता
तपी रेत के दूर तटों पर ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
Next post on
Friday 8th June

To receive an email notification
Subscribe
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | हमारा परिचय | सम्पर्क करें

a  MANASKRITI  website