हम खड़े हो जाएँ अपनी बेड़ियों को तोड़ कर।
रोशनी की ओर चल दें तीरगी को छोड़ कर।
ख़त्म जब हो जाएंगी माज़ी की सब रुस्वाइयाँ,
खुद-बख़ुद मुड़ जाएगा यह वक़्त अगले मोड़ पर।

~ विनोद तिवारी

संकलन "समर्पित सत्य समर्पित स्वप्न" में कविताओं के बीच बीच कई मुक्तक भी हैं, जैसे कि यह

'Agar Suno To'
Vani Murarka


taare jaḌe hain zindagee men
andhiyaare bichhe hain zindagee men

aur saa(n)son kee lahar
sahalaa jaatee hai …

agar suno to

...

Read more here...
'Kiske Sang Gaaye The'
Milaap Dugar


raat yadi shyaam naheen aae the
mainne itane geet suhaane kisake sang gaae the?

goo(n)j rahaa ab bhee vanshee svar,
mukh-sammukh uḌataa peetaambar.
kisane phir ye raas manohar
van men rachavaaye the?

shankaa kyon rahane den man men
chal kar sakhi dekhen madhuvan men
...

Read more here...
तोड़ दो सीमा क्षितिज की,
गगन का विस्तार ले लो


विनोद तिवारी की कविता "प्यार का उपहार" का वीडियो। उपहार उनका और वीडियो द्वारा उपहार का सम्प्रेषण भी वह ही कर रहे हैं। सरल श्रृंगार रस और अभिसार में भीगा, फिर भी प्यार का उपहार ऐसा जो व्यापक होने को प्रेरित करे।

प्यार का उपहार
random post
Let's try our luck!
Recent Poem Additions
pratidhwani : New Recitions
kaavya-lekh : New Articles

एक ईमेल की कहानी ~ वाणी मुरारका


Poems are presented in the following broad sections:
shilaadhaar - Classic poetry of pre-20th century
yugavaaNee - Contemporary poetry from beginning 20th century
nav-kusum - Gems from new and budding poets
kaavya-setu - A bridge to poetry from other languages
muktak - A selection of poetic pearls

pratidhwani Poems in Audio: in the poet's voice, or by another artist

kaavya-lekh Articles on Hindi Poetry

Publication Schedule:
Normally 1st and 3rd Friday of every month
submission | contact us | about us