Receive exquisite poems.

Jo Tum Aa Jaate Ek Baar
jo tum aa jaate ek baar
kitanee karuNaa kitane sa(n)desh,
path men bichh jaate ban paraag,
gaataa praaNon kaa taar-taar
anuraag-bharaa unmaad-raag;
aa(n)soo lete ve pad pakhaar !
jo tum aa jaate ek baar !

ha(n)s uThate pal men aardr nayan
ghul jaataa oThon se viShaad,
chhaa jaataa jeevan men vasant
luT jaataa chir-sanchit viraag;
aa(n)khen deteen sarvasv vaar.
jo tum aa jaate ek baar !
- Mahadevi Verma
Recited by: Geetika Jaswal

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Mahadevi Verma
's other poems on Kaavyaalaya

 Kaun Tum Mere Hriday Mein
 Jo Tum Aa Jaate Ek Baar
 Tum Mujhme Priya! Phir Parichay Kyaa!
 Panth Hone Do Aparichit
 Priya Chirantan Hai Sajani
 Mere Deepak
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website