Receive exquisite poems.
Har Makaan Boodhaa Hotaa
saadho, sach hai
jaise maanuSh
dheere-dheere har makaan bhee booḌhaa hotaa

deh gharon kee thak jaatee hai
bas jaataa bheetar a(n)dhiyaaraa
usake hiraday neh-sindhu jo
vah bhee ho jaataa hai khaaraa

ghar men
jo devaa basataa hai
ghar ko math kar zahar bilotaa

thakee-buḌhaaee ho jaatee hain
chaukhaT-deevaaren bhee ghar kee
saa(n)sen jo madhumaas hueen theen
baaT johatee hain patajhar kee

kisee a(n)dhere
kone men chhip kar
ghar kaa purakhaa hai rotaa

kalpavRkSh jo thaa aa(n)gan men
us par amarabel chaḌh jaatee
beete hue samay kaa lekhaa
likhatee bujhe diye kee baatee

kaalapuruSh tab
Dhalee dhoop ke beej
khanDahar-ghar men botaa
- Kumar Ravindra

काव्यालय को प्राप्त: 29 Mar 2017. काव्यालय पर प्रकाशित: 13 May 2022

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Kumar Ravindra
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhee Hone Do Samay Ko
 Kaash Hum Pagdandiyaan Hote
 Tair Rahaa Itihaas Nadee Mein
 Bakson Mein Yaadein
 mitra-sahejo
 Sun Sulakshanaa
 Har Makaan Boodhaa Hotaa
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website