Tair Rahaa Itihaas Nadee Mein
tair rahaa hai
yahaa(n), bandhu, itihaas nadee men

kha(n)Dahar koT-ka(n)goore tirate udhar magadh ke
idhar lahar lekar aaee hai aक़s avadh ke

kaa(n)p rahee hai
unakee booḌhee saa(n)s nadee men

Dol rahaa hai mahaabodhi birave kaa saayaa
vahee(n) tir rahee kalpavRkSh kee bhee hai chhaayaa

ghol rahe ve
sadiyon kee boo-baas nadee men

kaheen ahalyaa kaheen dropadee kee parachhaaeen
siyaa-raam kee jhalak abhee dee udhar dikhaaee

lahar rahaa hai
purakhon kaa vishvaas nadee men
- Kumar Ravindra
बिरवा : पेड़

प्राप्त: 7 Dec 2018. प्रकाशित: 4 Jan 2019

***
Kumar Ravindra
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhee Hone Do Samay Ko
 Kaash Hum Pagdandiyaan Hote
 Tair Rahaa Itihaas Nadee Mein
 Bakson Mein Yaadein
 mitra-sahejo
 Sun Sulakshanaa
This Month

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

Read and listen here...
Next post on
Friday 26th April

To receive an email notification
Subscribe
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website