mitra-sahejo

mitr sahejo
ham jangal se dhoop-chhaa(n)v lekar aaye hain

pagaDaNDee par ve baiThee theen paa(n)v pasaare
peḌon ne the phagunaahaT ke bol uchaare

unhen yaad the
RShiyon ne jo mantr sooryakul ke gaaye hain

vanakanyaa kee ha(n)see - neh usake hiraday kaa
unhen sa(n)joo - chha(n)T jaayegaa dhundh samay kaa

inhen n Tero
ghire shahar men dhue(n)-dhundh ke jo saaye hain

aadhee raaton ke nirNay hain sabhaagaar men
Ta(n)gee hueen sooraj kee chhaviyaa(n) raajadvaar men

unhen dishaa do
jo shaahon ke sanvaadon se bharamaaye hai
- Kumar Ravindra

प्राप्त: 16 Jan 2018. प्रकाशित: 11 Jan 2019

***
Kumar Ravindra
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhee Hone Do Samay Ko
 Kaash Hum Pagdandiyaan Hote
 Tair Rahaa Itihaas Nadee Mein
 Bakson Mein Yaadein
 mitra-sahejo
 Sun Sulakshanaa
This Month

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

Read and listen here...
Next post on
Friday 26th April

To receive an email notification
Subscribe
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website