Sun Sulakshanaa
prabhu kee kirapaa -
sun sulakShaNaa
is antim belaa men tum ho sang hamaare

barf-huee is deh dhare ke taap sang hain hamane bhoge
pure hamaare saare sapane jo the hamane, sajanee, joge

hiraday aksar
geet huaa thaa
din komal gaandhaar rahe the sang tumhaare

aadim chhuvan parv kee yaaden hamako rah-rah Ter rahee hain
yauvan kee meeThee phuhaar ko thakee jhurriyaa(n) her rahee hain

kaamadev ke
mantr ho gaye
bol sabhee ve jo the hamanen sang uchaare

patajhar hueen hamaaree saa(n)sen, bheetar phir bhee ritu phaagun kee
raas ho rahaa hai yah din bhee - goo(n)j aa rahee vansheedhun kee

nadeeghaaT par
kaheen baj rahee
hai shahanaaee - mahaakaal kaa parv guhaare
- Kumar Ravindra

प्रकाशित: 25 Jan 2019

***
Kumar Ravindra
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhee Hone Do Samay Ko
 Kaash Hum Pagdandiyaan Hote
 Tair Rahaa Itihaas Nadee Mein
 Bakson Mein Yaadein
 mitra-sahejo
 Sun Sulakshanaa
This Month

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

Read and listen here...
Next post on
Friday 26th April

To receive an email notification
Subscribe
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website