पावन कर दो
कवि! मेरा मन पावन कर दो!

हे! रसधार
बहाने वाले,
हे! आनन्द
लुटाने वाले,

ज्योतिपुंज मैं भी हो जाऊँ
ऐसा अपना तेज प्रखर दो!
(ऋग्वेद - मंत्र ९/५०/४ से अनुप्रेरित)
- अमृत खरे
पुस्तक "मयूरपंख: गीत संग्रह (अमृत खरे)" से
***