Receive exquisite poems.

Kuchh Naheen Chaahaa
kuchh naheen chaahaa hai tumase
par tum ek khoobasoorat moḌ ho
jahaa(n) Thaharane ko man karataa hai
kuchh pal chunane kaa man karataa hai
tumhe pakaḌ paas biThaane ko man karataa hai

kuchh naheen chaahaa hai tumase
tum ek lagaav ho
jise kuchh sunaane ko man karataa hai
kuchh bhee kahane ko man karataa hai
tumhe pukaar bas haa(n) yaa naa kahane ko man karataa hai
kuchh naheen chaahaa hai tumase
tum ek par khoobasoorat moḌ ho
jahaa(n) Thaharane ko man karataa hai.
- Rajni Bhargava
Recited by: Nupur Ashok
Rajni Bhargava
email: [email protected]

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Rajni Bhargava
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhivyaktiyaan
 Kuchh Naheen Chaahaa
 Samay Kee Lipi
 Seepee Mein Motee
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website