कौन तुम मेरे हृदय में
       कौन तुम मेरे हृदय में?

कौन मेरी कसक में नित
       मधुरता भरता अलक्षित?
कौन प्यासे लोचनों में
       घुमड़ घिर झरता अपरिचित?
       स्वर्ण स्वप्नों का चितेरा
              नींद के सूने निलय में!
                     कौन तुम मेरे हृदय में?

अनुसरण निश्वास मेरे
       कर रहे किसका निरन्तर?
चूमने पदचिन्ह किसके
       लौटते यह श्वास फिर फिर?
       कौन बन्दी कर मुझे अब
              बँध गया अपनी विजय मे?
                     कौन तुम मेरे हृदय में?

एक करुण अभाव चिर -
       तृप्ति का संसार संचित,
एक लघु क्षण दे रहा
       निर्वाण के वरदान शत-शत;
       पा लिया मैंने किसे इस
              वेदना के मधुर क्रय में?
                     कौन तुम मेरे हृदय में?

गूंजता उर में न जाने
       दूर के संगीत-सा क्या!
आज खो निज को मुझे
       खोया मिला विपरीत-सा क्या!
       क्या नहा आई विरह-निशि
              मिलन-मधदिन के उदय में?
                     कौन तुम मेरे हृदय में?

तिमिर-पारावार में
       आलोक-प्रतिमा है अकम्पित;
आज ज्वाला से बरसता
       क्यों मधुर घनसार सुरभित?
       सुन रही हूँ एक ही
              झंकार जीवन में, प्रलय में?
                     कौन तुम मेरे हृदय में?

मूक सुख-दुख कर रहे
       मेरा नया श्रृंगार-सा क्या?
झूम गर्वित स्वर्ग देता -
       नत धरा को प्यार-सा क्या?
       आज पुलकित सृष्टि क्या
              करने चली अभिसार लय में?
                     कौन तुम मेरे हृदय में?
- महादेवी वर्मा

***
महादेवी वर्मा
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 कौन तुम मेरे हृदय में
 जो तुम आ जाते एक बार
 तुम मुझमें प्रिय! फिर परिचय क्या
 पंथ होने दो अपरिचित
 प्रिय चिरन्तन है सजनि
 मेरे दीपक
इस महीने

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 26 अप्रैल को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website