अप्रतिम कविताएँ
कनुप्रिया (अंश 5) समापन

देखिए पूरी श्रृंखला 'कनुप्रिया मुखरित हुई'

क्या तुम ने उस वेला मुझे बुलाया था कनु?
लो, मैं सब छोड़-छाड़ कर आ गयी!

          इसी लिए तब
          मैं तुम में बूँद की तरह विलीन नहीं हुई थी,
          इसी लिए मैं ने अस्वीकार कर दिया था
          तुम्हारे गोलोक का
          कालावधिहीन रास,

          क्योंकि मुझे फिर आना था!

तुम ने मुझे पुकारा था न
मैं आ गयी हूँ कनु!

          और जन्मान्तरों की अनन्त पगडण्डी के
          कठिनतम मोड़ पर खड़ी हो कर
          तुम्हारी प्रतीक्षा कर रही हूँ।
          कि इस बार इतिहास बनाते समय
          तुम अकेले न छूट जाओ!

सुनो मेरे प्यार!
प्रगाढ़ केलिक्षणों में अपनी अन्तरंग
सखी को तुम ने बाहों में गूँथा
पर उसे इतिहास में गूँथने से हिचक क्यों गये प्रभू?

          बिना मेरे कोई भी अर्थ कैसे निकल पाता
          तुम्हारे इतिहास का
          शब्द, शब्द, शब्द ....
          राधा के बिना
          सब
          रक्त के प्यासे
          अर्थहीन शब्द!

सुनो मेरे प्यार!
तुम्हें मेरी जरूरत थी न, लो मैं सब छोड़ कर आ गयी हूँ
ताकि कोई यह न कहे
कि तुम्हारी अन्तरंग केलिसखी
केवल तुम्हारे साँवरे तन के नशीले संगीत की
लय बन कर रह गयी .........


          मैं आ गयी हूँ प्रिय!
          मेरी वेणी में अग्निपुष्प गुँथने वाली
          तुम्हारी उँगलियाँ
          अब इतिहास में अर्थ क्यों नहीं गूँथतीं?

                तुम ने मुझे पुकारा था न!

                मैं पगडण्डी के कठिनतम मोड़ पर
                तुम्हारी प्रतीक्षा में
                अडिग खड़ी हूँ, कनु मेरे!
- धर्मवीर भारती
काव्यपाठ: रुचि वार्ष्णेय
Kanupriya - Dharmaveer Bharati
Published by: Bharatiya Jnanpith
18, Institutional Area, Lodi Road,
New Delhi - 110 003

***
सहयोग दें
विज्ञापनों के विकर्षण से मुक्त, काव्य के सौन्दर्य और सुकून का शान्तिदायक घर... काव्यालय ऐसा बना रहे, इसके लिए सहयोग दे।

₹ 500
₹ 250
अन्य राशि
धर्मवीर भारती
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 कनुप्रिया (अंश 1) आम्र-बौर का गीत
 कनुप्रिया (अंश 2) विप्रलब्धा
 कनुप्रिया (अंश 3) उसी आम के नीचे
 कनुप्रिया (अंश 4) समुद्र-स्वप्न
 कनुप्रिया (अंश 5) समापन
 क्योंकि
 गुनाह का गीत
 चाँदनी जगाती है
 शाम: दो मनःस्थितियाँ
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
इस महीने :
'सम्पूर्ण यात्रा'
दिविक रमेश


प्यास तो तुम्हीं बुझाओगी नदी
मैं तो सागर हूँ
प्यासा
अथाह।

तुम बहती रहो
मुझ तक आने को।
मैं तुम्हें लूँगा नदी

..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website