काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
रुचि वार्ष्णेय

रुचि वार्ष्णेय की आवाज़ में अन्य कवियों की रचनाएँ
ऊँचाई - अटल बिहारी वाजपेयी
कनुप्रिया (अंश 5) समापन - धर्मवीर भारती
रुचि का जन्म हिमालय की तलहटी में स्थित शैक्षिक नगरी रूड़की में हुआ, वहीं उनका बचपन बीता। युवाकाल में हिन्दी साहित्य पढ़ना और उनका मुखर पाठ करना उनके खास शौक थे। रुचि ने आई.आई.टी (रूड़की) से इंजीनियरिंग, जमशेदपुर से मैनेजमेन्ट और अमरीका के जॉन हॉपकिन्स विश्वविद्यालय से लोक स्वास्थय की डिग्री प्राप्त की। इन दिनों वह कैलिफ़ोर्निया, अमरीका में अपने पति और दो बच्चों के साथ रहती हैं और एक ग्लोबल स्वास्थ्य सेवा कंपनी में काम करती हैं। ’आशा फ़ॉर एजुकेशन’ के लिए कोष जुटाने में और ’परी’ और काव्यालय जैसे उद्यम में स्वयंसेविका के जैसे योगदान देने में वह अपने अवकाश का वक्त का प्रयोग करती हैं। कण्ठ कलाकार बनकर हिन्दी साहित्य को और लोगों तक पहुँचाने में उन्हें खास रुचि है।

सम्पर्क: [email protected]


a  MANASKRITI  website