Anamanee Hai Saanjh
bahut hee anamanee hai saanjh, kaise to bitaaen ham!

achaanak hee
chhalak aaye nayan kuchh
kah rahe, dekho,
achaanak bhar uThe
svar, man, hRday
avasaad se, dekho,

bhalaa kyaa-kyaa chhupaao tum, bhalaa kyaa-kyaa chhupaaen ham!

ghaneraa suramaee aakaash
bheetar tak
utar aayaa,
kisee sharabiddh panchhee saa
akinchan man
hai ghabaraayaa,

chalo kuchh gunagunaao tum, chalo kuchh gunagunaaen ham!
bahut hee anamanee hai saanjh, kaise to bitaaen ham!!
- Amrit Khare
अवसाद : दुख; शरबिद्ध : बाण से घायल; अकिंचन : थोड़ा सा

अमृत खरे का काव्य संकलन : मयूर पंख (गीत संग्रह)

काव्यालय को प्राप्त: 14 May 2019. काव्यालय पर प्रकाशित: 14 Feb 2020

***
Amrit Khare
's other poems on Kaavyaalaya

 Anamanee Hai Saanjh
 Abhisaar Gaa Rahaa Hoon
 Corona Kaal Kaa Prem Geet
 Paavan Kar Do
This Month :
'Kiske Sang Gaaye The'
Milaap Dugar


raat yadi shyaam naheen aae the
mainne itane geet suhaane kisake sang gaae the?

goo(n)j rahaa ab bhee vanshee svar,
mukh-sammukh uḌataa peetaambar.
kisane phir ye raas manohar
van men rachavaaye the?

shankaa kyon rahane den man men
chal kar sakhi dekhen madhuvan men
..

Read and listen here...
वो खुशी जो कहीं नहीं हासिल।
जो मुअस्सर* नहीं ज़माने में।
ख़्वाबगाहों* से चल के आएगी
ख़ुदबख़ुद तेरे आशियाने में।

~ विनोद तिवारी

*मुअस्सर: प्राप्त करने योग्य; ख्वाबगाहों - सपनों की जगह;

संकलन "समर्पित सत्य समर्पित स्वप्न" में कविताओं के बीच बीच कई मुक्तक भी हैं, जैसे कि यह

तोड़ दो सीमा क्षितिज की,
गगन का विस्तार ले लो


विनोद तिवारी की कविता "प्यार का उपहार" का वीडियो। उपहार उनका और वीडियो द्वारा उपहार का सम्प्रेषण भी वह ही कर रहे हैं। सरल श्रृंगार रस और अभिसार में भीगा, फिर भी प्यार का उपहार ऐसा जो व्यापक होने को प्रेरित करे।

प्यार का उपहार
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website