Receive exquisite poems.

Abhisaar Gaa Rahaa Hoon
le jaaegaa kahaa(n) too
mujhase mujhe churaa ke!

patthar ke is nagar men
karabaddh praarthanaae(n),
is dvaar sar jhukaae(n),
us dvaar taḌaphaḌaae(n),;
phir bhee n TooTatee hain,
phir bhee n TooTanee hai,
chir maun kee kathaae(n),
chir maun kee prathaae(n),

kyon Terataa hai rah-rah
mujhe baa(n)suree banaa ke!

ujaḌe chatuShpathon par
bikhare hue mukhauTe,
jo kho gae svayan se
au’ aaj tak n lauTe,
unamen hee main bhee apanee
pahachaan paa rahaa hoo(n),
sannyaas ke svaron men
abhisaar gaa rahaa hoo(n),

kyon rakh rahaa hai sapane
meree aa(n)kh men sajaa ke!
- Amrit Khare
पुस्तक "मयूरपंख: गीत संग्रह (अमृत खरे)" से

काव्यालय पर प्रकाशित: 3 Dec 2015

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Amrit Khare
's other poems on Kaavyaalaya

 Anamanee Hai Saanjh
 Abhisaar Gaa Rahaa Hoon
 Corona Kaal Kaa Prem Geet
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website