अप्रतिम कविताएँ पाने
कौआ

घर के बाहर कौआ बैठा काँव-काँव चिल्लाता है।
कौन है आने वाला इसकी खबरें कौआ लाता है।

पापा की मौसी के घर से गुड़ की भेली आनी हो,
उस दिन सुबह सवेरे उठता जैसे बुढ़िया नानी हो,
चीख-चीख कर घर वालों को कौआ राग सुनाता है।
उस दिन सबसे पहले क्यों, मुझको नहीं जगाता है ?

मास्टर जी के आने पर कौए की छुट्टी होती है।
हाथ पे पड़ते बेंत ज़ोर के, कान कनैठी होती है।
शोर सुनाई देता है बस, समझ नहीं कुछ आता है,
काला अक्षर भी, काले कौए जैसा बन जाता है।

कभी कभी दादी कहती ये दादाजी के दादा हैं।
पहचानूँ पर कैसे उनको, कौए कितने ज़्यादा हैं!
जो आकर के गरम जलेबी और मलाई खाता है,
वो ही है वो कौआ जिससे अपने घर का नाता है!

मैंने सुना दिन आएगा जब कौआ मोती खायेगा,
लेकिन शायद मोती उसके कंठ में ही फँस जाएगा!
क्या मोती खाकर कौआ सच में हंस हो जाता है?
फिर कौए की ज़िम्मेदारी आख़िर कौन निभाता है?

और भी कितने पक्षी हैं जो रोज़ द्वार पर आते हैं,
लेकिन सब कहते हैं पक्षी, बिन पानी मर जाते हैं!
कौआ कंकड़ डाल-डाल कर पानी ऊपर ले आता है,
इसीलिए तो मुझको सब चिड़ियों में कौआ भाता है!

सब कहते हैं कुछ सालों में मैं भी बड़ा हो जाऊँगा।
फिर अपनी बच्चों जैसी बातों पर खुद पछताऊँगा।
कविता में तो हर बच्चा किस्से मनगढ़े सुनाता है।
सच बस इतना है कि कौआ काँव-काँव चिल्लाता है!
- जया प्रसाद
काव्यपाठ: जोगेंद्र सिंह

काव्यालय को प्राप्त: 15 May 2021. काव्यालय पर प्रकाशित: 9 Jul 2021

***
सहयोग दें
विज्ञापनों के विकर्षण से मुक्त, काव्य के सौन्दर्य और सुकून का शान्तिदायक घर... काव्यालय ऐसा बना रहे, इसके लिए सहयोग दे।

₹ 500
₹ 250
अन्य राशि
जया प्रसाद
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 अघट घटती जा रही है
 आठ वर्ष
 कौआ
सुबह के होने की अपनी अनुभूति और अनुपम कल्पना को एक कवि खूबसूरत शब्दों में ढालता है। उसे ऐसे मधुर सुर और नयनाभिराम मौलिक चित्रांकन मिलते हैं कि कविता सजीव हो आपके अंतर्मन में सुकून बन कर उतर जाती है -- इसे ही साकार किया है काव्यालय ने अपनी इस विशिष्ट प्रस्तुति में

इस महीने :
'ज़िंदगी की नोटबुक'
भावना सक्सैना


बहुत चाहा फेयर रखूँ
ज़िन्दगी की नोटबुक को
लेकिन हमेशा रफ ही पाया...

कॉपी के उन आखिरी दो पन्नों की तरह
जिन पर होते हैं हिसाब अनगिन
हिसाब बिठाने की कोशिश में
लेकिन, छूटा कोई हासिल
गुणा करते हुए, भाग ही पाया
बहुत चाहा...
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
इस महीने :
'अक्कड़ मक्कड़'
भवानीप्रसाद मिश्र


अक्कड़ मक्कड़, धूल में धक्कड़,
दोनों मूरख, दोनों अक्खड़,
हाट से लौटे, ठाठ से लौटे,
एक साथ एक बाट से लौटे।

बात-बात में बात ठन गयी,
बांह उठीं और मूछें तन गयीं।
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website