Receive exquisite poems.

Ye Gajre Taaron Waale
is sote sansaar beech,
         jag kar saj kar rajanee baale!
kahaa(n) bechane le jaatee ho,
         ye gajare taaron vaale?
mol karegaa kaun,
         so rahee hain utsuk aa(n)khen saaree.
mat kumhalaane do,
         soonepan men apanee nidhiyaa(n) nyaaree..
nirjhar ke nirmal jal men,
         ye gajare hilaa hilaa dhonaa.
lahar hahar kar yadi choome to,
         kinchit vichalit mat honaa..
hone do pratibimb vichumbit,
         laharon hee men laharaanaa.
'lo mere taaron ke gajare'
         nirjhar-svar men yah gaanaa..
yadi prabhaat tak koee aakar,
         tum se haay! n mol kare.
to phoolon par os-roop men
         bikharaa denaa sab gajare..
- Ramkumar Verma
Recited by: Vani Murarka

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Ramkumar Verma
's other poems on Kaavyaalaya

 Atma Samarpan
 Ye Gajre Taaron Waale
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website