Receive exquisite poems.

Vyathaa Jee Uthee
achet kee dhool men gaDh़ee,
jang se maDh़ee,
barason pahale kee vyathaa,
maun thee, supt thee.
apane aapako lapeTe thee.
chetan ne use gaaD़aa thaa yahaa(n),
sa(n)bhaal n paa rahaa thaa, apane yahaa(n).
us din kisee ne,
anajaane men
use chhoo liyaa,
to vah karaah uThee,
kulabulaa uThee,
mRt vyathaa
phir jeevit ho gayee thee.
chetan ne bhee
usake jee uThane par
kuchh ashru-boo(n)den
bahaayee theen.
- Geeta Malhotra
Geeta Malhotra
Email: [email protected]
Geeta Malhotra
Email: [email protected]

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Geeta Malhotra
's other poems on Kaavyaalaya

 Vyathaa Jee Uthee
 Holi Kee Shaam
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website