Receive exquisite poems.
Visvashtaa
main naheen aayaa tumhaare dvaar
         path hee muḌ gayaa thaa.

gati mili main chal paḌaa
         path par kaheen rukanaa manaa thaa,
raah anadekhee, ajaanaa desh
         sangee anasunaa thaa.
chaa(n)d sooraj kee tarah chalataa
         n jaanaa raatadin hai,
kis tarah ham tum gae mil
         aaj bhee kahanaa kaThin hai,
tan n aayaa maa(n)gane abhisaar
         man hee juḌ gayaa thaa.

dekh mere pankh chal, gatimay
         lataa bhee lahalahaaee
patr aa(n)chal men chhipaae mukh
         kalee bhee muskuraaee.
ek kShaN ko tham gae Daine
         samajh vishraam kaa pal
par prabal sangharSh banakar
         aa gaee aa(n)dhee sadalabal.
Daal jhoomee, par n TooTee
         kintu panchhee uḌ gayaa thaa.
- Shiv Mangal Singh 'Suman'

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Shiv Mangal Singh 'Suman'
's other poems on Kaavyaalaya

 Aabhaar
 Visvashtaa
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website