Receive exquisite poems.

Ik Kavita
kuchh pal ke uthale chintan se
kabhee janamatee hai ik kavitaa
varShon kavi ke antarman men
kabhee panapatee hai ik kavitaa

do nayanon men ban ashru-bind
kabhee chamakatee hai ik kavitaa
do adharon kee muskaan banee
kabhee Thumakatee hai ik kavitaa

soone bistar kee silavaTon men
kabhee sisakatee hai ik kavitaa
do baahon ke aalingan men
kabhee simaTatee hai ik kavitaa

poojaa ke shraddhaa sumanon see
kabhee mahakatee hai ik kavitaa
krodhaagni kee jvaalaa ban kar
kabhee dhadhakatee hai ik kavitaa

vaatsaly bharee, mamataamay see
kabhee chhalakatee hai ik kavitaa
aavesh eerShyaa dveSh bharee
kabhee uph़natee hai ik kavitaa

mere mat se utpann ho kar
mere bhaavon se nikhar sa(n)var
tere niShThur man tak bhee kyaa
kabhee pahu(n)chatee hai ik kavitaa ?
- Archana Gupta
Archana Gupta
Email : [email protected]

काव्यालय पर प्रकाशित: 1 Apr 2016

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Archana Gupta
's other poems on Kaavyaalaya

 Ik Kavita
 Phir Man Mein Yah Kaisee Halchal
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website