Receive exquisite poems.

Phir Man Mein Yah Kaisee Halchal
           varShon se jo maun khaḌe the
           nirvikaar nirmoh baḌe the
un paaShaaNon se ab kyoo(n)kar ashrudhaar bah nikalee aviral
           phir man men ye kaisee halachal ?

           nishchal jinako jag ne maanaa
           guN-svabhaav se sthir nit jaanaa
chakravaat prachanD uThate hain kyoo(n) antar men pratikShaN, pratipal
           phir man men ye kaisee halachal ?

           yug beete jinase mukh moḌaa
           jin smRtiyon ko peechhe chhoḌaa
ab kyoo(n) baaT nihaaren unakee palapal hokar lochan vihval?
           phir man men ye kaisee halachal ?
- Archana Gupta
Archana Gupta
Email : [email protected]
Archana Gupta
Email : [email protected]

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Archana Gupta
's other poems on Kaavyaalaya

 Ik Kavita
 Phir Man Mein Yah Kaisee Halchal
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website