Receive exquisite poems.
Ghumantoo Mahaaraaj
ghumantoo mahaaraaj
shree shree 1008, svaamee soorajaanand
yaatraa karate karate brahmaanD kee
baarah ghar se gujarate hue
padhaare hain apane makar bhavan men

baḌe chamatkaaree!
bhramaN kaa bhram dete
aur nachaate jagat ko
inakaa gussaa aisaa
aa(n)khen tareree
to dharaNee kaa(n)p gaee ThiThuran se!

phir chhoḌ gae oḌhane ko dushaale
kaale blaik-hol se muḌate svaamee
kaale til se juḌate
to aramaan hRday ke patang ban uḌate
lanbe lanbe kiraN punj saa gannaa choosate maanav
par anaath baalak makke kee roTee haath men lie
daan men mile kanbal men ghus gae
jaise abodh bhole shishu maa(n) ke aa(n)chal men chhupakar
stanapaan ke lie lapake.

garam pinD kee khichaḌee aur laavaa kaa ghee
plaajmaa gais men aayanik kaNon kee chhaunk
kRpaa-prasaad milaa hamen ghee khichaḌee men.

- Harihar Jha
प्लाज़्मा -- सूर्य वास्तव में प्लाज़्मा का गोला है। ठोस, द्रव, वाष्प (solid, liquid, gas) के अतिरिक्त प्लाज़्मा (plasma) पदार्थ की चौथी अवस्था है।
आयनिक -- Ionic, charged. जब अणुओं में इलेक्ट्रॉन का आधिक्य या कमी होती है।

काव्यालय को प्राप्त: 6 Jan 2024. काव्यालय पर प्रकाशित: 19 Jan 2024

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Harihar Jha
's other poems on Kaavyaalaya

 Ghumantoo Mahaaraaj
 Pyaar Gangaa Kee Dhaar
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website