अप्रतिम कविताएँ
यात्रा और यात्री
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!

चल रहा है तारकों का
दल गगन में गीत गाता,
चल रहा आकाश भी है
शून्य में भ्रमता-भ्रमाता,
                 पाँव के नीचे पड़ी
                 अचला नहीं, यह चंचला है,
एक कण भी, एक क्षण भी
एक थल पर टिक न पाता,
                 शक्तियाँ गति की तुझे
                 सब ओर से घेरे हुए है;
                 स्थान से अपने तुझे
                 टलना पड़ेगा ही, मुसाफिर!
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!

थे जहाँ पर गर्त पैरों
को ज़माना ही पड़ा था,
पत्थरों से पाँव के
छाले छिलाना ही पड़ा था,
                 घास मखमल-सी जहाँ थी
                 मन गया था लोट सहसा,
थी घनी छाया जहाँ पर
तन जुड़ाना ही पड़ा था,
                 पग परीक्षा, पग प्रलोभन
                 ज़ोर-कमज़ोरी भरा तू
                 इस तरफ डटना उधर
                 ढलना पड़ेगा ही, मुसाफिर;
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!

शूल कुछ ऐसे, पगो में
चेतना की स्फूर्ति भरते,
तेज़ चलने को विवश
करते, हमेशा जबकि गड़ते,
                 शुक्रिया उनका कि वे
                 पथ को रहे प्रेरक बनाए,
किन्तु कुछ ऐसे कि रुकने
के लिए मजबूर करते,
                 और जो उत्साह का
                 देते कलेजा चीर, ऐसे
                 कंटकों का दल तुझे
                 दलना पड़ेगा ही, मुसाफिर;
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!

सूर्य ने हँसना भुलाया,
चंद्रमा ने मुस्कुराना,
और भूली यामिनी भी
तारिकाओं को जगाना,
                 एक झोंके ने बुझाया
                 हाथ का भी दीप लेकिन
मत बना इसको पथिक तू
बैठ जाने का बहाना,
                 एक कोने में हृदय के
                 आग तेरे जग रही है,
                 देखने को मग तुझे
                 जलना पड़ेगा ही, मुसाफिर;
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!

वह कठिन पथ और कब
उसकी मुसीबत भूलती है,
साँस उसकी याद करके
भी अभी तक फूलती है;
                 यह मनुज की वीरता है
                 या कि उसकी बेहयाई,
साथ ही आशा सुखों का
स्वप्न लेकर झूलती है
                 सत्य सुधियाँ, झूठ शायद
                 स्वप्न, पर चलना अगर है,
                 झूठ से सच को तुझे
                 छलना पड़ेगा ही, मुसाफिर;
         साँस चलती है तुझे
         चलना पड़ेगा ही मुसाफिर!
- हरिवंशराय बच्चन
Ref: Satrangini - Dr. Harivansh Rai Bachchan
Pub: Rajpal and Sons
Kashmiri Gate, Delhi -

***
सहयोग दें
विज्ञापनों के विकर्षण से मुक्त, काव्य के सौन्दर्य और सुकून का शान्तिदायक घर... काव्यालय ऐसा बना रहे, इसके लिए सहयोग दे।

₹ 500
₹ 250
अन्य राशि
हरिवंशराय बच्चन
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 अँधेरे का दीपक
 इस पार उस पार
 कहते हैं तारे गाते हैं
 जुगनू
 नीड़ का निर्माण
 प्रतीक्षा
 मधुशाला
 मुझे पुकार लो
 यात्रा और यात्री
 रात आधी खींच कर मेरी हथेली
 लो दिन बीता, लो रात गई
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
इस महीने :
'सम्पूर्ण यात्रा'
दिविक रमेश


प्यास तो तुम्हीं बुझाओगी नदी
मैं तो सागर हूँ
प्यासा
अथाह।

तुम बहती रहो
मुझ तक आने को।
मैं तुम्हें लूँगा नदी

..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website