Receive exquisite poems.
Antaheen Samwaad
aaj bhee tum apanee
jheenee see muskuraahaT le
mere paas aate ho
phir haule se
mere pahaloo men
baiTh jaate ho
shanai: shanai:
mujh par sneh ke pankh
pasaarate ho

main,
apekShaaon aur
aakaankShaaon ke
jhanjhaavat men Doob
tumako anadekhaa kar detaa hoo(n)

priy,
agar tum
apane ko mujhase baa(n)T paate
shaayad,
j़yaadaa naa sahee
thoD़aa to duniyaadaaree se
ubar paate!

kisee roj़
tum aanaa
avasaad ko
pare rakh
mere pahaloo
men bas baiTh jaanaa...

prashnavaachak nigaah
par ardh-viraam lagaa,
mujh tak
poorNaviraam
kee gunjaayash men,
ummeedon kaa saveraa
aur
aaj kee shaam hee kaaT jaanaa

kal kee kal dekhenge
ek ujaale kee ummeed men
phir ek behatareen shaam
par avasaad ke saaye
naheen paD़ne denge
- Manjari Gupta Purwar
Manjari Gupta Purwar: [email protected]

काव्यालय को प्राप्त: 26 Oct 2021. काव्यालय पर प्रकाशित: 22 Dec 2023

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Manjari Gupta Purwar
's other poems on Kaavyaalaya

 Antaheen Samwaad
 Surkhiyaan
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
राष्ट्र वसन्त
रामदयाल पाण्डेय

पिकी पुकारती रही, पुकारते धरा-गगन;
मगर कहीं रुके नहीं वसन्त के चपल चरण।

असंख्य काँपते नयन लिये विपिन हुआ विकल;
असंख्य बाहु हैं विकल, कि प्राण हैं रहे मचल;
असंख्य कंठ खोलकर 'कुहू कुहू' पुकारती;
वियोगिनी वसन्त की...

पूरी कविता देखने और सुनने इस लिंक पर क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website