Prem Akshat
aap sun to rahen hain
mere geet yah
man ke mandir men deepak
jalaaye to hain
aapake saamane baiTh kar
anaginat, ashru paavan
nayan se giraaye to hain
neh kee Daaliyon se
sugandhit suman
saanvare shree charaN par
chaDh़aaye to hain
meree poojaa men rolee
n chandan priy
bhaal par prem akShat
lagaaye to hain
kyon main ghanTaa dhvani se
jagaaoon tumhen
saaj, saragam ke svar
gunagunaaye to hain
bhool n jaanaa kabhee
yah tuchchh bhakti meree
bhaav kavitaa men gaDh़
kar sunaaye to hain
yah janm aapake
rang men rang liyaa
svapn agale janm ke
sajaaye to hain.
- Abha Saxena

काव्यालय को प्राप्त: 2 Feb 2021. काव्यालय पर प्रकाशित: 5 Feb 2021

***
Abha Saxena
's other poems on Kaavyaalaya

 Kaisaa Parivartan
 Prem Akshat
लखनऊ के एक बड़े प्रकाशक की मुलाकात पाँचवी कक्षा के एक बालक से हुई -- तो क्या बातें हुईं दोनों में? वह बालक उस उम्र में कौन सी किताबें पढ़ रहा था? उसकी प्रथम प्रकाशित कविता कौन सी थी?

देखिए "बाल विनोद - लिखते पढ़ते कविता" "एक मुलाकात 'पंखुरी' के साथ" भाग 3 -- अद्भुत कविताओं के रचनाकार विनोद तिवारी बचपन में क्या पढ़ते थे, लिखते थे -- एक कवि की बालक से कवि बनने की यात्रा।

बचपन में विनोद तिवारी एक तलाश पर चल दिए। इन्द्रधनुष के उस पार जाना था। बचपन में ही एक उपन्यास में कुछ पढ़ कर उन्होंने अपना करियर चुना। बात उसी तलाश की थी।

सात-आठ साल की उम्र में कविता लिखनी भी शुरु की। उस वक्त उनके हिन्दी के अध्यापक ने जो कहा उसका असर अब तक उनकी हर कविता पर रहती है।

प्रस्तुत है वीडियो श्रृंखला एक मुलाकात 'पंखुरी' के साथ का भाग 2 : विनोद तिवारी और इन्द्रधनुष अब असली वार्तालाप शुरु हुई है, और कितनी दिलचस्प! बाल मन पर हुए प्रभाव जिसने जीवन भर की दिशा तय की।

शामली उत्तरप्रदेश में एक बहु-प्रतिभाशाली फूल की पंखुरी रहतीं है -- पारुल ’पंखुरी’। वह एक सफल कवयित्री, यूट्यूबर, गायिका हैं जो नित नए प्रयोग करती रहती हैं। काव्यालय परिवार का वह अभिन्न अंग हैं।

उन्होंने एक साक्षात्कार आयोजित किया, दो दिग्गज कवि विनोद तिवारी और अमृत खरे के साथ। काव्यालय की संस्थापिका वाणी मुरारका भी उपस्थित हैं। देखिए वीडियो श्रृंखला का पहला भाग

एक मुलाकात ’पंखुरी’ के साथ 1 - परिचय
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website