कहते हैं तारे गाते हैं
                       कहते हैं तारे गाते हैं!
                       सन्नाटा वसुधा पर छाया,
                       नभ में हमने कान लगाया,
फिर भी अगणित कंठों का यह राग नहीं हम सुन पाते हैं!
                       कहते हैं तारे गाते हैं!

                       स्वर्ग सुना करता यह गाना,
                       पृथिवी ने तो बस यह जाना,
अगणित ओस-कणों में तारों के नीरव आँसू आते हैं!
                       कहते हैं तारे गाते हैं!

                       ऊपर देव तले मानवगण,
                       नभ में दोनों गायन-रोदन,
राग सदा ऊपर को उठता, आँसू नीचे झर जाते हैं।
                       कहते हैं तारे गाते हैं!
- हरिवंशराय बच्चन

***
हरिवंशराय बच्चन
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 अँधेरे का दीपक
 इस पार उस पार
 जुगनू
 कहते हैं तारे गाते हैं
 लो दिन बीता, लो रात गई
 मधुशाला
 मुझे पुकार लो
 प्रतीक्षा
 रात आधी खींच कर मेरी हथेली
 यात्रा और यात्री
इस महीने
'समय की शिला पर'
शम्भुनाथ सिंह


समय की शिला पर मधुर चित्र कितने
किसी ने बनाये, किसी ने मिटाये।

किसी ने लिखी आँसुओं से कहानी
किसी ने पढ़ा किन्तु दो बूंद पानी
इसी में गये बीत दिन ज़िन्दगी के
गयी घुल जवानी, गयी मिट निशानी।

विकल सिन्धु के साध के मेघ कितने
धरा ने उठाये, गगन ने गिराये।
...
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 22 दिसम्बर को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें