जुगनू
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                उठी ऐसी घटा नभ में
                छिपे सब चांद औ' तारे,
                उठा तूफान वह नभ में
                गए बुझ दीप भी सारे,
मगर इस रात में भी लौ लगाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                गगन में गर्व से उठउठ,
                गगन में गर्व से घिरघिर,
                गरज कहती घटाएँ हैं,
                नहीं होगा उजाला फिर,
मगर चिर ज्योति में निष्ठा जमाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                तिमिर के राज का ऐसा
                कठिन आतंक छाया है,
                उठा जो शीश सकते थे
                उन्होनें सिर झुकाया है,
मगर विद्रोह की ज्वाला जलाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                प्रलय का सब समां बांधे
                प्रलय की रात है छाई,
                विनाशक शक्तियों की इस
                तिमिर के बीच बन आई,
मगर निर्माण में आशा दृढ़ाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                प्रभंजन, मेघ दामिनी ने
                न क्या तोड़ा, न क्या फोड़ा,
                धरा के और नभ के बीच
                कुछ साबित नहीं छोड़ा,
मगर विश्वास को अपने बचाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?

                प्रलय की रात में सोचे
                प्रणय की बात क्या कोई,
                मगर पड़ प्रेम बंधन में
                समझ किसने नहीं खोई,
किसी के पथ में पलकें बिछाए कौन बैठा है?
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है?
- हरिवंशराय बच्चन

***
हरिवंशराय बच्चन
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 अँधेरे का दीपक
 इस पार उस पार
 कहते हैं तारे गाते हैं
 जुगनू
 प्रतीक्षा
 मधुशाला
 मुझे पुकार लो
 यात्रा और यात्री
 रात आधी खींच कर मेरी हथेली
 लो दिन बीता, लो रात गई
इस महीने
'कारवाँ गुज़र गया'
गोपालदास नीरज


स्वप्न झरे फूल से,
मीत चुभे शूल से,
लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से,
और हम खड़ेखड़े बहार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया, गुबार देखते रहे!

नींद भी खुली न थी कि हाय धूप ढल गई,
पाँव जब तलक उठे कि ज़िन्दगी फिसल गई,
पातपात झर गये कि शाख़शाख़ जल गई,
चाह तो निकल सकी न, पर उमर निकल गई, ..
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'मेरे सम्बन्धीजन'
परमहंस योगानन्द


समाधि के विस्तृत महाकक्ष में,
जो लाखों झिलमिलाते प्रकाशों से दीप्त,
और बर्फीले बादल की चित्र यवनिका से शोभायमान है,
मैंने गुप्त रूप से अपने सभी - दीन-हीन, गर्वित सम्बन्धीजनों को देखा।

महान प्रीतिभोज संगीत से उमड़ा,
ओम का नगाड़ा बजा अपनी ताल में।
अतिथि नाना प्रकार के सजे,
कुछ साधारण, कुछ शानदार पोशाकों में। ..
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 27 जुलाई को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website