इस महीने : अन्य भाषाओं तक अनुवाद का सेतु काव्य सेतु
रवीन्द्रसंगीत का हिन्दी गीतान्तर, दाउलाल कोठारी द्वारा
'क्यूँ भिजोये ना'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


क्यूँ भिजोये ना नयनों के नीर से, सूखे धूलि कण तेरे।
कौन जाने आओगे तुम्हीं, अनाहूत मेरे॥

पार हो आये हो मरु,
नहीं वहाँ पर छाया तरु,
पथ के दुःख दिये हैं तुम्हें, मन्द भाग्य मेरे॥
...
पूरी रचना यहाँ पढें और सुनें...
गुजराती कविता का अनुवाद, मूल सहित
'आना'
नीशू बाल्यान


मैं यहाँ अकेली हो गई...

मैं घड़ी की, घंटे की सुई
और तू सैकण्ड की सुई
समान... रुकता ही नहीं।
...
पूरी रचना यहाँ पढें और सुनें...
नई प्रकाशित कवितायें
पूनम सिन्हा
शार्दुला झा नोगजा
धर्मवीर भारती
प्रतिध्वनि में नया ऑडियो
रवीन्द्रनाथ ठाकुर
नीशू बाल्यान
गोपाल गुंजन
महादेवी वर्मा
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
उभरते कवियों की रचनाएँ
अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मोती समान पंक्तियों का चयन
कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा:
काव्य सम्बन्धित लेख:
प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार