इस महीने
'अँधेरे का मुसाफ़िर'
सर्वेश्वरदयाल सकसेना


यह सिमटती साँझ,
यह वीरान जंगल का सिरा,
यह बिखरती रात, यह चारों तरफ सहमी धरा;
उस पहाड़ी पर पहुँचकर रोशनी पथरा गयी,
आख़िरी आवाज़ पंखों की किसी के आ गयी ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
'शून्य कर दो'
विनीत मिश्रा


मुझको फिर से शून्य कर दो
तुम्हारे योग से ही तो पूर्ण हुआ था
फिर भूल गया
मेरा अस्तित्व था नगण्य
तुमसे जुड़े बिन
नए अंकों से मिल कर
मैंने मान लिया था स्वयं को
पूर्ण से भी कुछ अधिक ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 6 जुलाई को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
नई प्रकाशित कवितायें
गिरिजाकुमार माथुर
विनोद तिवारी
वाणी मुरारका
वैभव नेहरा
प्रदीप शुक्ला
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
उभरते कवियों की रचनाएँ
अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मोती समान पंक्तियों का चयन
कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा:
काव्य सम्बन्धित लेख:
प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार