काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
पारुल 'पंखुरी'
पारुल 'पंखुरी' की काव्यालय पर रचनाएँ
कविता उम्मीद से है
चीख

पारुल 'पंखुरी' की आवाज़ में अन्य कवियों की रचनाएँ
कनुप्रिया (अंश 3) उसी आम के नीचे - धर्मवीर भारती
कौन रंग फागुन रंगे - दिनेश शुक्ल
दुर्गा वन्दना - विनोद तिवारी
पारुल गुप्ता ‘पंखुरी’ शामली, उ. प्र. में रहती हैं| उन्होंने गणित में स्नातक स्तर पढ़ाई कर कम्प्युटर कोर्स और इंटीरियर डिजाइनिंग का कोर्स किया है|

लेखनी की विभिन्न विधाओं में अपनी अभिव्यक्ति को आज़माते रहना पसंद करती हैं फिर चाहे वह तुकान्त, अतुकान्त, मुक्तक, दोहे हों या गद्य| अखिल भारतीय काव्य प्रतियोगिता में 2015 में उनकी कविता “भूकंप” के लिए वह विजेता रह चुकीं हैं| “निर्झरिका”, “कविता अनवरत” काव्य संग्रह में उनकी कवितायेँ प्रकाशित हुई हैं| आकाशवाणी में, और ऑनलाइन पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती हैं|

शादी ब्याह के अवसरों पर parody और स्क्रिप्ट लिखते लिखते उनकी यात्रा कविताओं पर जा पहुंची | Facebook पर भी उन्हें अच्छा प्लेटफार्म मिला|

आप उन्हें और यहाँ पढ़ सकते हैं:
ब्लॉग
Facebook


a  MANASKRITI  website