पेड़

हिन्दी अनुवाद

मैं शायद कभी न देखूँगा,
एक पेड़ सी सुन्दर कविता।

पेड़, जिसके वह भूखे होंठ,
वसुधा स्तन-धारा पे हैं लोट।

पेड़, जिसका रुख ईश्वर ओर,
पल्लवित भुजाएं विनय विभोर।

जो पेड़ गरमी में पहने हो,
अलकों में घोंसले इक या दो।

छाती पर हिम चादर ओढ़े,
वर्षा में अन्तरंग डोले।

मुझ से अज्ञानी पद रच लें,
पेड़ रचना ईश्वर ही सकें।


अंग्रेज़ी मूल

I think that I shall never see
A poem lovely as a tree.

A tree whose hungry mouth is prest
Against the earth’s sweet flowing breast;

A tree that looks at God all day,
And lifts her leafy arms to pray;

A tree that may in Summer wear
A nest of robins in her hair;

Upon whose bosom snow has lain;
Who intimately lives with rain.

Poems are made by fools like me,
But only God can make a tree.


- जोएस किलमर
- अनुवाद: वाणी मुरारका

22nd Jan 2021 को प्रकाशित

***
तोड़ दो सीमा क्षितिज की,
गगन का विस्तार ले लो


विनोद तिवारी की कविता "प्यार का उपहार" का वीडियो। उपहार उनका और वीडियो द्वारा उपहार का सम्प्रेषण भी वह ही कर रहे हैं। सरल श्रृंगार रस और अभिसार में भीगा, फिर भी प्यार का उपहार ऐसा जो व्यापक होने को प्रेरित करे।

प्यार का उपहार
This Month :
'Adhooree Saadhanaa'
Vani Murarka


priyatam mere,
sab bhinn bhinn bunate hain
guladaston ko,
bhaavanaaon se,
vichaaron se.
main tumhe bunoo(n)
apanee saa(n)son se.
bhaavanaayen sthir ho jaae(n),
vichaaradhaaraa bhee
..

Read and listen here...
This Month :
'Prem Akshat'
Abha Saxena


aap sun to rahen hain
mere geet yah
man ke mandir men deepak
jalaaye to hain
aapake saamane baiTh kar
anaginat, ashru paavan
nayan se giraaye to hain
neh kee Daaliyon se
sugandhit suman
saanvare shree charaN par
chaDh़aaye to hain
..

Read and listen here...
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website