Receive exquisite poems.
Disambar ki Daal par
disanbar kee Daal par khilakar
chupachaap murajhaa chuke hain
gyaarah phool

madhumakkhiyaa(n) aaeen
khele bha(n)vare bhee unakee god men,
kitanaa looTaa kisane
naheen jaanate
beet chuke gyaarah phool

baarahavaa(n) phool khilaa hai sankoch men
vah jaanataa hai
un phoolon ke avadaan ko
apane prati

havaae(n) naach-naach kar sokh rahee hain
phool kaa geelaapan,
phir bhee baakee hai muskaan phool men
jaise Daal par soee chiD़iyaa ke paron men
baakee bachaa rahataa hai
uD़aan ke saath
thoD़aa-saa aasamaan bhee.
- Kalpana Manorama
अवदान : बल
"कब तक सूरजमुखी बनें हम" कल्पना मनोरमा का नवगीत संग्रह है। इनके गीत और लघुकथाएँ कई साझा संकलनों में भी शामिल हो चुके है। "कस्तूरिया" इनका अपना ब्लॉग है।

काव्यालय को प्राप्त: 8 Dec 2021. काव्यालय पर प्रकाशित: 17 Dec 2021

***
Donate
A peaceful house of the beauty and solace of Hindi poetry, free from the noise of advertisements... to keep Kaavyaalaya like this, please donate.

₹ 500
₹ 250
Another Amount
Kalpana Manorama
's other poems on Kaavyaalaya

 Kachchi Kachchi Dhoop
 Disambar ki Daal par
This Month :
'Jo Hawaa Mein Hai'
Umashankar Tiwari


jo havaa men hai, lahar men hai
kyon naheen vah baat
mujhamen hai?

shaam kandhon par lie apane
zindagee ke roo-b-roo chalanaa
roshanee kaa hamasafar honaa
umr kee kandeel kaa jalanaa
aag jo
jalate safar men...
..

Read and listen here...
This Month :
'Divya'
Goethe


Translated by ~ Priyadarshan

nek bane manuShy
udaar aur bhalaa;
kyonki yahee ek cheej़ hai
jo use alag karatee hai
un sabhee jeevit praaNiyon se
jinhen ham jaanate hain.

svaagat hai apnee...
..

Read and listen here...
होलोकॉस्ट में एक कविता
~ प्रियदर्शन

लेकिन इस कंकाल सी लड़की के भीतर एक कविता बची हुई थी-- मनुष्य के विवेक पर आस्था रखने वाली एक कविता। वह देख रही थी कि अमेरिकी सैनिक वहाँ पहुँच रहे हैं। इनमें सबसे आगे कर्ट क्लाइन था। उसने उससे पूछा कि वह जर्मन या अंग्रेजी कुछ बोल सकती है? गर्डा बताती है कि वह 'ज्यू' है। कर्ट क्लाइन बताता है कि वह भी 'ज्यू' है। लेकिन उसे सबसे ज़्यादा यह बात हैरानी में डालती है कि इसके बाद गर्डा जर्मन कवि गेटे (Goethe) की कविता 'डिवाइन' की एक पंक्ति बोलती है...

पूरा काव्य लेख पढ़ने यहाँ क्लिक करें
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website