Receive exquisite poems by email.
बसंत और पतझड़

हिन्दी अनुवाद

मैं तेज़ी से भागी स्कूल के बाहर
बगीचे से होते हुए, जंगल तक
बिताया पूरा बसंत, अब तक का सीखा भूलने में

दो दूनी चार और मेहनत और बाकी सब
बनना विनम्र और उपयोगी, होना सफल और बाकी सब
मशीन और तेल, प्लास्टिक और पैसे और बाकी सब

पतझड़ आने तक कुछ भर चुके थे मेरे घाव, तभी बुला लिया गया मुझे
उन्हीं चॉक और डेस्क से भरे कमरों में, बैठकर याद करने

कैसे बह रही थी नदी पत्थरों पर
कैसे गा रहे थे जंगली पक्षी जिनके बैंक में नहीं थी फूटी कौड़ी
कैसे ओढ़े हुए थे फूल, कुछ नहीं बस नूर!


अंग्रेज़ी मूल

I went out of the schoolhouse fast
and through the gardens to the woods,
and spent all summer forgetting what I'd been taught --

two times two, and diligence, and so forth,
how to be modest and useful, and how to succeed and so forth,
machines and oil and plastic and money and so forth.

By fall I had healed somewhat, but was summoned back
to the chalky rooms and the desks, to sit and remember

the way the river kept rolling its pebbles,
the way the will wrens sang though they hadn't a penny in the bank,
the way the flowers were dressed in nothing but light.


- मेरी ऑलिवर
- अनुवाद: नूपुर अशोक
नूर : चमक

16th Sep 2022 को प्रकाशित

***
This Month :
'Os Jitnee Namee'
Jaya Prasad


ek naap jitanee kh़lish
kh़latee naheen
chalatee hai

jaise os kee boond jitanaa
seelaapan
jaise neend ke baad vaalee
halakee see thakan --
..

Read and listen here...
अक्षर नगरी

एक थी अक्षर नगरी सुन्दर
उसमें रहते सारे अक्षर।
एक था छोटा बच्चा अ,
उसका भाई बड़क्का आ।
अ की सखी थी छोटी इ।
उसकी बड़ी बहन थी ई।
चारों बच्चे बहुत दोस्त थे;
साथ खेलते और पढ़ते थे।

एक बार वे चारों बच्चे
एक पार्क में खेल रहे थे।
उस दिन उनके उसी पार्क
में चार नए बच्चे आये थे।

... पूरी रचना यहाँ पढ़ें

This Month :
'Is Nashwar Sansaar Mein'
Kundan Siddharth


sirf dukh naheen jaataa
sukh bhee chalaa jaataa hai
yahaa(n) rahane kaun aayaa hai

sirf ghRNaa naheen haaratee
prem bhee haar jaataa hai

sansaar men sabase dukhabharee hotee hai prem kee haar
tab prem sirf kavitaaon aur kahaaniyon men
bachaa rah jaataa hai

yahee bachaa huaa prem
hamaaree aa(n)khon men ..

Read and listen here...
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us
Donate

a  MANASKRITI  website