Ankahee See Baat
baat,
jo tum kah naheen paaye,
jo rah gayee thee
do baaton ke daramyaan
aTak kar
tumhaare adharon par
jise chhupaa liyaa
tumhaaree najaron ne
palaken jhukaa kar,
use paḌh liyaa thaa mainne
aur vah shaamil ho gayaa hai
mere hone men .
usee ko main likhataa hoo(n) aajakal,
apanee kavitaaon men.
boo(n)d boo(n)d
apane vajood men Doobokar.
tumhaare lie
jo thee
ek zaraa
anakahee see baat,
vah ek silasilaa ban gayaa hai
kabhee naheen khatm hone vaalaa.
mere man kaa aakaash
abhee bhee taakataa hai raah
aur phaahe se banaataa hai
tarah tarah kee tasveeren
aur phir phoonk kar uḌaa detaa hai
idhar udhar
muskuraate hue.
kabhee kabhee baras bhee jaataa hai
aa(n)khon se,
agar kabhee idhar aanaa
to lekar aanaa
ek naav.
nadee jo tumhen dikhatee hai sookhee
hai daraasal labaalab bharee huee.
jis kinaare par kabhee tumane likhaa thaa
apanaa naam,
use mainne ab bhee bachaakar rakhaa hai
nadee kee dhaaraa se
apanee deh kee aaḌ dekar
aur tumhaaree a(n)guliyon kee chhuan
mahasoos karataa hoo(n)
apanee hathelee par.
jab aao to apane pairon ke neeche
rakh lenaa
ek phool.
- Neeraj Neer

प्राप्त: 14 Apr 2018. प्रकाशित: 7 Dec 2018

***
This Month

'भावुकता और पवित्रता'
रवीन्द्रनाथ ठाकुर


भाव-रस के लिए हमारे हृदय में एक स्वाभाविक लोभ होता है। काव्य और शिल्पकला से, गल्प, गान और अभिनय से, भाव-रस का उपभोग करने का आयोजन हम करते रहते हैं।

प्राय: उपासना से भी हम भाव-तृप्ति चाहते हैं। कुछ क्षणों के लिए एक विशेष रस का आभोग करके हम यह सोचते हैं कि हमें कुछ लाभ हुआ। धीरे-धीरे इस भोग की आदत एक नशा बन जाती है। मनुष्य अन्यान्य रस-लाभ के लिए जिस तरह विविध प्रकार के आयोजन करता है, लोगों को नियुक्त करता है, रुपया खर्च करता है उसी तरह उपासना-रस के नशे के लिए भी वह तरह-तरह के आयोजन करता है। रसोद्रेक के लिए उचित लोगों का संग्रह करके उचित रूप से वक्तृताओं की व्यवस्था की जाती है। भगवत्प्रेम का रस नियमित रूप से मिलता रहे, इस विचार से तरह-तरह की दुकानें खोली जाती है। ..

Read and listen here...
Next post on
Friday 26th April

To receive an email notification
Subscribe
random post | poem sections: shilaadhaar yugavaaNee nav-kusum kaavya-setu | pratidhwani | kaavya-lekh
submission | contact us | about us

a  MANASKRITI  website