ईमेल दर्ज़ करें: अप्रतिम कविताएँ पाने
कल्पना मनोरमा
कल्पना मनोरमा की काव्यालय पर रचनाएँ
कच्ची-कच्ची धूप
दिसंबर की डाल पर

"कब तक सूरजमुखी बनें हम" कल्पना मनोरमा का नवगीत संग्रह है। इनके गीत और लघुकथाएँ कई साझा संकलनों में भी शामिल हो चुके हैं और कई पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। "कस्तूरिया" इनका अपना ब्लॉग है।

इन्हें दोहा शिरोमणि सम्मान(2014), वनिका पब्लिकेशन द्वारा लघुकथा लहरी सम्मान (2016), वैसबरा शोध संस्थान द्वारा नवगीत गौरव सम्मान (2018), प्रथम कृति पर- सर्व भाषा ट्रस्ट द्वारा सूर्यकान्त निराला सम्मान (2019) तथा जैमिनी अकादमी पानीपत हरियाणा द्वारा आचार्य सम्मान (2021) से अलंकृत किया जा चुका है। सम्प्रति ये दिल्ली में अध्यापन व स्वतंत्र लेखन में रत हैं।


a  MANASKRITI  website