काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
अर्चना गुप्ता
अर्चना गुप्ता की काव्यालय पर रचनाएँ
इक कविता
फिर मन में ये कैसी हलचल ?

अर्चना गुप्ता की आवाज़ में अन्य कवियों की रचनाएँ
कनुप्रिया (अंश 2) विप्रलब्धा - धर्मवीर भारती
अर्चना गुप्ता व्यवसाय से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। इन्हें हिन्दी/उर्दू काव्य पढ़ने-लिखने, और पुराने हिन्दी फ़िल्मी गीत सुनने का शौक़ है और अपने पति, दो पुत्रों, घर और काम में बँटे व्यस्त जीवन से कुछ क्षण अपनी इन रुचियों के लिए रोज़ चुरा ही लेती हैं । वैसे गद्य और पद्य दोनों ही पढ़ने में इन्हें रुचि है परंतु गत कुछ वर्षों से सभी भाषाओं में काव्य के प्रति इनका रुझान अधिक रहा है। हिंदी में श्री हरिवंशराय बच्चन और श्रीमती महादेवी वर्मा, और उर्दू में मिर्ज़ा ग़ालिब, फ़ैज़ अहमद 'फैज़' और कैफ़ी आज़मी इनके सर्वप्रिय कवि हैं। इनके अतिरिक्त, अमृता प्रीतम की रचनाओं के प्रति ये विशेष आसक्ति रखती हैं। लेखन-पाठन के अतिरिक्त, अपने बेटों को बेसबॉल खेलते देखना, देश-विदेश का पर्यटन करना, फिल्में देखना, खाना बनाना और स्क्रैप बुकिंग करना इनकी अन्य रुचियाँ हैं।

सम्पर्क: [email protected]


a  MANASKRITI  website