अप्रतिम कविताएँ
अमरत्व (Immortality)

हिन्दी अनुवाद

कब्र पे मेरी बहा ना आँसू
हूँ वहाँ नहीं मैं, सोई ना हूँ।

झोंके हजारों हवाओं की मैं
चमक हीरों-सी हिमकणों की मैं
शरद की गिरती फुहारों में हूँ
फसलों पर पड़ती किरणों में हूँ।

जब उठते हो तुम शांत सवेरे
चहकी चिड़ियों के पाखें घेरे
भरती उनमें उड़ान अबद्ध हूँ
मैं परे रात के दिन अनन्त हूँ।

कब्र पे मेरी बहा ना आँसू
हूँ वहाँ नहीं मैं मरी कहाँ हूँ।


अंग्रेज़ी मूल

    Do not stand
        By my grave, and weep.
    I am not there,
        I do not sleep—
I am the thousand winds that blow
I am the diamond glints in snow
I am the sunlight on ripened grain,
I am the gentle, autumn rain.
As you awake with morning’s hush,
I am the swift, up-flinging rush
Of quiet birds in circling flight,
I am the day transcending night.
    Do not stand
        By my grave, and cry—
    I am not there,
        I did not die.


- क्लेर हार्नर
- अनुवाद : वाणी मुरारका
इस कविता के विषय में और रोचक जानकारी यहाँ उपलब्ध है

काव्यालय पर प्रकाशित: 12 Jul 2024

***
इस महीने :
'फूलों वाला पेड़'
ध्रुव गुप्त


मैं मर गया तो पेड़ बनूंगा
फूलों वाला एक विशाल पेड़
तुम कभी थक जाओ तो
कुछ देर आकर बैठना उसके नीचे
मैं झरूंगा तुमपर
फूलों की तरह
धूप की तरह
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
इस महीने :
'जब पेड़ उखड़ता है'
जसिन्ता केरकेट्टा


जंगल से गुजरते हुए उसने
ओक के पेड़ की पत्तियों को चूमा
जैसे अपनी माँ की हथेलियों को चूमा
कहा - यह मेरी माँ का हाथ पकड़कर बड़ा हुआ है
इसके पास आज भी उसका स्पर्श है
जंगल का हाथ पकड़कर
मेरे...
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website