Nadee Kaa Bahnaa Mujhme Ho
meree koshish hai ki
nadee kaa bahanaa mujhamen ho.

taT se saTe kachhaar ghane ho(n)
jagah jagah par ghaaT bane ho(n)
Teelon par mandir ho(n) jinamen
svar ke vividh vitaan tane hon

meeD़ moorchchhanaao(n) kaa
uThanaa giranaa mujhamen ho.

jo bhee pyaas pakaD़ le kagaree
bhar le jaaye khaalee gagaree
chhookar teer udaas n lauTen
hiran ki gaay baagh yaa bakaree

machchh magar ghaDiyaal
sabhee kaa rahanaa mujhamen ho.

main n rukoo(n) sangrah ke ghar me
dhaar rahe mere tevar men
meraa badan kaaT kar nahare
paanee le jaayen oosar me

jahaa(n) kaheen ho banjarapan kaa
maranaa mujhamen ho.
- Shiv Bahadur Singh Bhadauriya
मीड़: संगीत में एक स्वर से दूसरे स्वर पर जाना। मूर्छना: सात स्वरों का आरोह अवरोह। कगरी: ऊँचा किनारा, ओंठ। ऊसर: नोनी भूमि, जहाँ अन्न उत्पन्न नहीं होता है

प्रकाशित: 18 Jan 2018

***
Shiv Bahadur Singh Bhadauriya
's other poems on Kaavyaalaya

 Jeekar Dekh Liya
 Nadee Kaa Bahnaa Mujhme Ho
इस महीने
'तोंद'
प्रदीप शुक्ला


कहते हैं सब लोग तोंद एक रोग बड़ा है
तोंद घटाएँ सभी चलन यह खूब चला है।
पर मानो यदि बात तोंद क्यों करनी कम है
सुख शान्ति सम्मान दायिनी तोंद में दम है।

औरों की क्या कहूं, मैं अपनी बात बताता
बचपन से ही रहा तोंद से सुखमय नाता। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
Next post on
Friday 23rd February

To receive an email notification
Subscribe