ईमेल दर्ज़ करें: अप्रतिम कविताएँ पाने
लक्ष्मी नारायण गुप्त
लक्ष्मी नारायण गुप्त की काव्यालय पर रचनाएँ
शीत का आतंक



मूलतः ग्वालियर का होने के कारण सम्पूर्ण शिक्षा वहीँ हुई| लेखापरीक्षा अधिकारी के पद से सेवानिवृत होने के बाद साहित्य सृजन के क्षेत्र में सक्रिय हुआ|

गंध सुगंध एवम् जयतु भारती दो काव्य संग्रह प्रकाशित|


a  MANASKRITI  website