काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
गीतिका जैसवाल

गीतिका जैसवाल की आवाज़ में अन्य कवियों की रचनाएँ
जो तुम आ जाते एक बार - महादेवी वर्मा
गीतिका जैसवाल, बाल अधिकार और सामुदायिक विकास के क्षेत्र में काम करती हैं| इन दिनों दुबई में रहती हैं| दिनकर और बच्चन इनके प्रिय कवि हैं| अल्मोड़ा के पर्वत, कुमाऊं की सांस्कृतिक वातावरण और सुमित्रानन्दन पन्त के जन्मस्थल में इनका बचपन बीता और इसी कारण इन्हें हिन्दी से इतना प्रेम है| अब गीतिका पूरा समय माँ की भूमिका निभाती हैं और अपने बेटे को हिन्दी कवितायें पढ़ कर सुनाना पसंद करती हैं, इस आशा के साथ कि वह भी हिन्दी के प्रति प्रेम को धरोहर के जैसे ग्रहण करेगा|

ईमेल: [email protected]


a  MANASKRITI  website