अप्रतिम कविताएँ
एक अदद तारा मिल जाये
एक अदद तारा मिल जाये
तो इस नीम अँधेरे में भी
तुमको लम्बा ख़त लिख डालूँ।

छोटे ख़त में आ न सकेंगी
पीड़ा की पर्वतमालाएँ
और छटपटाहट की नदियाँ।
पता नहीं क्या वक़्त हुआ है,
सिर्फ़ भाप है कलाइयों पर,
बारिश में भीगीं यूँ घड़ियाँ।

एक अदद माचिस मिल जाये
तो मैं बुझी काँगड़ी से भी
कुछ नीले अंगार उठा लूँ।

लिख डालूँ तड़के दरवाज़े,
बंद ड्योढ़ियाँ, घुप बरामदे,
लहूलुहान हुई तहज़ीबें।
लिख दूँ सतही तहक़ीक़ातें,
चतुर दिलासे, झूठे ढाढस,
उलझाने वाली तरक़ीबें।

एक अदद पारस मिल जाये
तो इन लौह पलों को भी मैं
कंचन की आभा में ढालूँ।

मत पूछो यह दुनिया क्या है
कोई साही खड़ी हुई हो
ज्यों अपने काँटे फैलाये।
है हर रंज ताड़ से ऊँचा,
हर तकलीफ़ कुएँ से गहरी,
कोई कैसे स्वप्न बचाये?

एक अदद माँदल मिल जाये
तो मैं शूलों के सम्मुख भी
फूलों की पीड़ाएँ गा लूँ।

महज़ कमीज़ों से क्या होगा,
हम मनुष्यता भी तो पहनें,
धारण करें बड़प्पन भी तो।
मन-मयूर नाचेगा हर पल
और पपीहा भी हुलसेगा,
आसमान में हों घन भी तो।

एक अदद मधुऋतु मिल जाये
तो बेरंग अहातों में भी
सतरंगी तितलियाँ बुला लूँ।

आकर निंदियायी टहनी पर
हुदहुद का चुपचाप बैठना
ठकठक की शुरुआत तो नहीं।
नीरस-सी मुस्कानों वाले
ये निढाल-से चेहरे हैं जो,
पतझर वाले पात तो नहीं?

एक अदद आँधी मिल जाये
तो मैं उड़े चँदोवों में भी
उत्सव के उद्गार सजा लूँ।
- सत्येन्द्र कुमार रघुवंशी
नीम = आधा; साही = porcupine; माँदल = ढोलक; हुदहुद = एक पक्षी

काव्यालय को प्राप्त: 20 Sep 2023. काव्यालय पर प्रकाशित: 19 Apr 2024

***
सहयोग दें
विज्ञापनों के विकर्षण से मुक्त, काव्य के सौन्दर्य और सुकून का शान्तिदायक घर... काव्यालय ऐसा बना रहे, इसके लिए सहयोग दे।

₹ 500
₹ 250
अन्य राशि
इस महीने :
'अमरत्व'
क्लेर हार्नर


कब्र पे मेरी बहा ना आँसू
हूँ वहाँ नहीं मैं, सोई ना हूँ।

झोंके हजारों हवाओं की मैं
चमक हीरों-सी हिमकणों की मैं
शरद की गिरती फुहारों में हूँ
फसलों पर पड़ती...
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
इस महीने :
'फूलों वाला पेड़'
ध्रुव गुप्त


मैं मर गया तो पेड़ बनूंगा
फूलों वाला एक विशाल पेड़
तुम कभी थक जाओ तो
कुछ देर आकर बैठना उसके नीचे
मैं झरूंगा तुमपर
फूलों की तरह
धूप की तरह
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
इस महीने :
'जब पेड़ उखड़ता है'
जसिन्ता केरकेट्टा


जंगल से गुजरते हुए उसने
ओक के पेड़ की पत्तियों को चूमा
जैसे अपनी माँ की हथेलियों को चूमा
कहा - यह मेरी माँ का हाथ पकड़कर बड़ा हुआ है
इसके पास आज भी उसका स्पर्श है
जंगल का हाथ पकड़कर
मेरे...
..

पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें और सुनें...
संग्रह से कोई भी रचना | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
सम्पर्क करें | हमारा परिचय
सहयोग दें

a  MANASKRITI  website