काव्यालय की सामग्री पाने ईमेल दर्ज़ करें: हर महीने प्रथम और तीसरे शुक्रवार
धर्मवीर भारती
1926-1997

प्रमुख साहित्यकार धर्मवीर भारती ने लेखक, कवि, नाट्यकार, सम्पादक और पत्रकारिता की भूमिका में बहुफल काम किया| ‘धर्मयुग’ के संपादक के रूप में गंभीर पत्रकारिता का एक मानक निर्धारित किया। पत्रकारिता के क्षेत्र में, भारत पाक युद्ध में, जिसमें बांग्ला देश को स्वतंत्रता मिली, उन्होंने एक साहसी युद्ध संवाददाता का जोखिम भरा काम किया।

इलाहाबाद में आपका जन्म हुआ और पी.एच.डी तक की शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में प्राप्त की| अध्ययन और यात्रा आपके दो शौक थे| कोर्स की पढ़ाई के साथ साथ उन्हीं दिनों शैली, कीट्स, वर्ड्सवर्थ, टॅनीसन, एमिली डिकिन्सन तथा अनेक फ़्रांसीसी, जर्मन और स्पेन के कवियों के अंग्रेज़ी अनुवाद पढ़े| एमिल ज़ोला, शरदचंद्र, गोर्की, क्युप्रिन, बालज़ाक, चार्ल्स डिकेन्स, विक्टर हयूगो, दॉस्तोयव्स्की और तॉल्सतोय के उपन्यास ख़ूब डूब कर पढ़े।

आपकी काव्य पुस्तकें हैं, "ठंडा लोहा", "सात गीत वर्ष", "कनुप्रिया", "सपना अभी भी", "आद्यन्त"| "अंधायुग" आपका प्रसिद्ध पद्यनाटक है, "गुनाहों का देवता", "सूरज का सातवाँ घोड़ा", प्रसिद्ध उपन्यास| भारती जी को भारत के अनेकों पुरुस्कारों से सम्मानित किया गया था। इनमें से कुछ प्रमुख ये हैं: 1972 में हिंदी साहित्य में योगदान के लिए पद्मश्री और 1988 में हिंदी नाट्य लेखन के लिए संगीत नाटक अकादमी का पुरुस्कार।

आभार: भारतकोश, विकिपीडिया


a  MANASKRITI  website