इस महीने
'गा रही मैं गीत में तूफ़ान'
सूर्यकुमारी माहेश्वरी


गा रही मैं गीत में तूफ़ान!

आज जबकि सप्त सागर खौलते हैं
आज जबकि प्रलय के स्वर गूंजते हैं
आज घिरता आ रहा जब विश्व का अवसान
गा रही मैं गीत में तूफ़ान!
...
पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
'यह अमरता नापते पद - महादेवी वर्मा को श्रद्धांजलि'
शरद तिवारी



बात उन दिनों की है जब मैं क्रोस्थवेट कॉलेज, इलाहाबाद में ग्यारहवीं-बारहवीं कक्षा में पढ़ती थी। भारत की स्वतंत्रता को भी अभी 11 - 12 वर्ष ही हुए थे। उन दिनों इलाहाबाद हिन्दी साहित्य का गढ़ माना जाता था। हिन्दी के कई दिग्गज साहित्यकार इलाहाबाद के निवासी थे। इनमें से तीन प्रमुख नाम थे निराला, सुमित्रानंदन पंत, और महादेवी वर्मा, जिन्हे हिन्दी में छायावाद का अग्रदूत कहा जाता है। इन तीनो में मेरे लिए और मेरी सहपाठी सखियों के लिए महादेवी वर्मा का विशेष भावनात्मक महत्त्व था, क्योंकि वह भी हमारे क्रोस्थवेट कॉलेज में ही प्रशिक्षित हुयी थीं। ...
पूरी प्रस्तुति यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 7 सितम्बर को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
नई प्रकाशित कवितायें
परमहंस योगानन्द
विनीत मिश्रा
गिरिजाकुमार माथुर
विनोद तिवारी
वाणी मुरारका
सारी रचनाएँ काव्यालय के इन विभागों में संयोजित हैं:
20वी सदी के पूर्व हिन्दी का शिलाधार काव्य
20वी सदी के प्रारम्भ से समकालीन काव्य
उभरते कवियों की रचनाएँ
अन्य भाषाओं के काव्य से जोड़ती हुई रचनाएँ
मोती समान पंक्तियों का चयन
कविताओं का ऑडियो: कवि की अपनी आवाज़ में, या अन्य कलाकार द्वारा:
काव्य सम्बन्धित लेख:
प्रकाशन का समयक्रम:
सामान्यतः महीने का प्रथम और तीसरा शुक्रवार