Shoonya Kar Do
mujhako phir se shoony kar do
tumhaare yog se hee to poorN huaa thaa
phir bhool gayaa
meraa astitv thaa nagaNy
tumase juḌe bin
nae ankon se mil kar
mainne maan liyaa thaa svayan ko
poorN se bhee kuchh adhik
aaj jab antaraman se bhaag n sakaa
to bodh huaa ye
ke tumane hee to is niShpraaN ko
jeevan diyaa thaa
aatm-glaani se hoke vichalit
kar rahaa hoo(n) tumase vinatee
mujhako phir se shoony kar do
ho sakoo(n) yadi main pariShkRt
phir bhale tum poorN kar do
par aaj mujhako shoony kar do
- Vineet Mishra

प्राप्त: 23 Apr 2014. प्रकाशित: 7 Jun 2018

***
This Month
'Gaa Rahee Main Geet Mein Toofaan!'
Suryakumari Maaheshwari


gaa rahee main geet men toofaan!

aaj jabaki sapt saagar khaulate hain
aaj jabaki pralay ke svar goonjate hain
aaj ghirataa aa rahaa jab vishv kaa avasaan
gaa rahee main geet men toofaan!
..
Read more here...
This Month
'Yah Amartaa Naapte Pad - Tribute To Mahadevi Verma'
Sharad Tewary


बात उन दिनों की है जब मैं क्रोस्थवेट कॉलेज, इलाहाबाद में ग्यारहवीं-बारहवीं कक्षा में पढ़ती थी। भारत की स्वतंत्रता को भी अभी 11 - 12 वर्ष ही हुए थे। उन दिनों इलाहाबाद हिन्दी साहित्य का गढ़ माना जाता था। हिन्दी के कई दिग्गज साहित्यकार इलाहाबाद के निवासी थे। इनमें से तीन प्रमुख नाम थे निराला, सुमित्रानंदन पंत, और महादेवी वर्मा, जिन्हे हिन्दी में छायावाद का अग्रदूत कहा जाता है। इन तीनो में मेरे लिए और मेरी सहपाठी सखियों के लिए महादेवी वर्मा का विशेष भावनात्मक महत्त्व था, क्योंकि वह भी हमारे क्रोस्थवेट कॉलेज में ही प्रशिक्षित हुयी थीं। ..
Read more here...
Next post on
Friday 7th September

To receive an email notification
Subscribe
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website