Gahraa Aangan
is pal kaa yah gaharaa aa(n)gan
isamen too spandit hai saajan.
nayanaalokit smRtiyon se hain
man bharapoor preet se paavan.

dooShit vishv pavan ho paavan
jag ko arpit yah premaa(n)gan.
tanahaaee jo man manDaraae -
too manameet hameshaa saajan.
- Vani Murarka
नयनालोकित: नयन + आलोकित: रोशनी से भरी आँखें
Vani Murarka
vani.murarka@gmail.com

प्राप्त: 29 Nov 2014. प्रकाशित: 5 Apr 2018

***
Vani Murarka
's other poems on Kaavyaalaya

 Adhooree Saadhanaa
 Gahraa Aangan
 Chup See Lagee Hai
 Jal Kar De
This Month
'Yah Amartaa Naapte Pad - Tribute To Mahadevi Verma'
Sharad Tewary


बात उन दिनों की है जब मैं क्रोस्थवेट कॉलेज, इलाहाबाद में ग्यारहवीं-बारहवीं कक्षा में पढ़ती थी। भारत की स्वतंत्रता को भी अभी 11 - 12 वर्ष ही हुए थे। उन दिनों इलाहाबाद हिन्दी साहित्य का गढ़ माना जाता था। हिन्दी के कई दिग्गज साहित्यकार इलाहाबाद के निवासी थे। इनमें से तीन प्रमुख नाम थे निराला, सुमित्रानंदन पंत, और महादेवी वर्मा, जिन्हे हिन्दी में छायावाद का अग्रदूत कहा जाता है। इन तीनो में मेरे लिए और मेरी सहपाठी सखियों के लिए महादेवी वर्मा का विशेष भावनात्मक महत्त्व था, क्योंकि वह भी हमारे क्रोस्थवेट कॉलेज में ही प्रशिक्षित हुयी थीं। ..
Read more here...
Next post on
Friday 17th August

To receive an email notification
Subscribe
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | सम्पर्क करें | हमारा परिचय

a  MANASKRITI  website