Ek Rahasya
tham jaatee hai kalam
band ho jaate hain adhar
Thahar jaatee hain shvaasen bhee pal bhar ko
likhate hue naam bhee... us anaam kaa
najar bhar koee dekh le aakaash ko
yaa chhoo le ghaas kee nok par
aTakee huee os kee boond
jhalak mil jaatee hai jisakee
kisee phool par baiThee titalee ke pankhon men
yaa godhooli kee belaa men ghar lauTate
panchhiyon kee kataaron se aate saamoohik gaan men
koee kare bhee to kyaa kare
is akhanD aayojan ko dekhakar
Thagaa saa rah jaataa hai man kaa hiraN
idhar-udhar kulaanche maaranaa bhool
nihaarataa hai adRshy se aatee svarN rashmiyon ko
jo rachane lagatee hain nit naye roop
kitaabon men naheen milataa javaab
ek rahasy banaa hee rahataa hai...
- Anita Nihalani

प्राप्त: 7 Apr 2017. प्रकाशित: 15 Jun 2017

***
इस महीने की कविता
'पेड़, मैं और सब'
मरुधर मृदुल


पेड़ नहीं हैं, उठी हुई
धरती की बाहें हैं
तेरे मेरे लिए माँगती
रोज दुआएँ हैं।

पेड़ नहीं हैं ये धरती की
खुली निगाहें हैं
तेरे मेरे लिए निरापद
करती राहे हैं। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने की कविता
'देख यायावर!'
सोनू हंस


तुझे दरिया बुलाते हैं,
बूँदों के हार लेकर।
तुझे अडिग पर्वत बुलाते हैं,
हिम कणों का भार लेकर।
देख यायावर! तू ठहरना नहीं,
जब तलक वादियाँ मिल जाए न।
देख यायावर! तू ठहरना नहीं,
जब तलक आँखें अनिमेष ठहर जाए न। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...