Abhee Hone Do Samay Ko
abhee hone do
samay ko
geet phir kuchh aur

vakt ke booḌhe kailenDar ko
haTaa do
nayaa Taa(n)gon
varSh kee pahalee subah se
baa(n)suree kee dhunen maa(n)go

suno nishchit
aamravan men
aaegaa phir baur

barph kee ghaTanaae(n)
thoḌee der kee hain
dhoop hongee
khushabuon ke Taapuon par
Tikegee phir paree-Dongee

saa(n)s kee
yaatraaon ko do
veNuvan kee Thaur

abhee baakee
hai alaukikataa
hamaare shankh men bhee
aur baakee hain uḌaanen
suno, booḌhe pankh men bhee

in thakee
pichhalee layon par bhee
karo tum gaur
- Kumar Ravindra
Email: kumarravindra310@gmail.com

प्राप्त: 6 Jan 2017. प्रकाशित: 21 Dec 2017

***
Kumar Ravindra
's other poems on Kaavyaalaya

 Abhee Hone Do Samay Ko
 Kaash Hum Pagdandiyaan Hote
 Bakson Mein Yaadein
इस महीने
'अँधेरे का मुसाफ़िर'
सर्वेश्वरदयाल सकसेना


यह सिमटती साँझ,
यह वीरान जंगल का सिरा,
यह बिखरती रात, यह चारों तरफ सहमी धरा;
उस पहाड़ी पर पहुँचकर रोशनी पथरा गयी,
आख़िरी आवाज़ पंखों की किसी के आ गयी ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'शून्य कर दो'
विनीत मिश्रा


मुझको फिर से शून्य कर दो
तुम्हारे योग से ही तो पूर्ण हुआ था
फिर भूल गया
मेरा अस्तित्व था नगण्य
तुमसे जुड़े बिन
नए अंकों से मिल कर
मैंने मान लिया था स्वयं को
पूर्ण से भी कुछ अधिक ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
Next post on
Friday 6th July

To receive an email notification
Subscribe
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | हमारा परिचय | सम्पर्क करें

a  MANASKRITI  website