चीख
रात हो जाती है जब, घनी स्याह
तूफ़ान समुन्दर में उठते हैं अथाह
उस पहर जब
जिन्दा भी मुर्दों की श्रेणी में आते हैं
मरहम से सपने नींद सजाते हैं
महसूस होता है एक साया
जिस्म पर हाथ फेरता
चूड़ियाँ तब भी टूटती हैं
दर्द की वो भी पराकाष्ठा है
मगर चीख जिस्म से
बाहर नही निकलती
क्योंकि -
उसके पास "सर्टिफिकेट" है
- पारुल 'पंखुरी'
Parul 'Pankhuri'
Email : pankhuri1978@gmail.com
Parul 'Pankhuri'
Email : pankhuri1978@gmail.com

***
इस महीने
'प्यार का नाता'
विनोद तिवारी


ज्योत्सना सी स्निग्ध सुन्दर,
तुम गगन की तारिका सी।
पुष्पिकाओं से सजी,
मधुमास की अभिसारिका सी। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'रोशनी'
मधुप मोहता


रात, हर रात बहुत देर गए,
तेरी खिड़की से, रोशनी छनकर,
मेरे कमरे के दरो-दीवारों पर,
जैसे दस्तक सी दिया करती है। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...