भोर का गीत
भोर की लाली हृदय में राग चुप-चुप भर गयी!

     जब गिरी तन पर नवल पहली किरन
     हो गया अनजान चंचल मन-हिरन
     प्रीत की भोली उमंगों को लिए
     लाज की गद-गद तरंगों को लिए
प्रात की शीतल हवा आ, अंग सुरभित कर गयी!

     प्रिय अरुण पा जब कमलिनी खिल गयी
     स्वर्ग की सौगात मानों मिल गयी,
     झूमती डालें पहन नव आभरण,
     हर्ष-पुलकित किस तरह वातावरण,
भर सुनहरा रंग, ऊषा कर गयी वसुधा नयी!
- डा. महेन्द्र भटनागर
Dr. Mahendra Bhatnagar
Email : drmahendrabh@rediffmail.com
Dr. Mahendra Bhatnagar
Email : drmahendrabh@rediffmail.com

***
डा. महेन्द्र भटनागर
की काव्यालय पर अन्य रचनाएँ

 भोर का गीत
 एक रात
 कौन तुम
 माँझी
इस महीने
'प्यार का नाता'
विनोद तिवारी


ज्योत्सना सी स्निग्ध सुन्दर,
तुम गगन की तारिका सी।
पुष्पिकाओं से सजी,
मधुमास की अभिसारिका सी। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'रोशनी'
मधुप मोहता


रात, हर रात बहुत देर गए,
तेरी खिड़की से, रोशनी छनकर,
मेरे कमरे के दरो-दीवारों पर,
जैसे दस्तक सी दिया करती है। ...
पूरी रचना यहाँ पढें...