आना

हिन्दी अनुवाद

मैं यहाँ अकेली हो गई...

मैं घड़ी की, घंटे की सुई
और तू सैकण्ड की सुई
समान... रुकता ही नहीं।
दिन का अवसान
अभी बाकी है...
पागल हुई पर,
श्वांसप्राण बाकी है...

लेकिन तू... समझता ही नही!!

आना... राह तकूंगी
अभी महाप्रयाण बाकी है,
तेरे, कंधों की सैर
बाकी है,
इन लरज़ती अँगुलियों की
छुअन बाकी है,
अभी बंज़र धरा में
तूफ़ान बाकी है।
आना, अगली बात बाकी है,
सूखी बगिया में
बहार बाकी है।
जीवन नौका की
पतवार बाकी है।
तेरी और मेरी

बात बाकी है।।

अधूरी वात (गुजराती मूल)

हूँ अत्यारे, एकली थई गई...

हूँ घड़ियाल नी, घंटा नो शूल,
अणे तू सेकंड नो शूल
सम... थमतो ज नथी।।
दिवस नो अवसान
हवे बाकी छे...
घेलि थई पण ,
स्वांस प्राण बाकी छे...

पण तू... हमजे ज नथी।।

आवजो... वाट जोविश
हवे महाप्रयाण बाक़ी छे,
तारी, काँधा नी सेर
वाकी छे,
आ थरथराती अंगुलिओनी
छुवन वाकी छे,
हवे बंज़र धरा मां
तूफ़ान वाकी छे।।
आवजो, आगली वार्ता
वाकी छे, सूखी फुलवारी
नी वहार वाकी छे।
होड़ी मां पतवार
वाकी छे।
तारी अने मारी

वार्ता वाकी छे।।
- नीशू बाल्यान

3rd Feb 2017 को प्रकाशित

***
इस महीने
'अँधेरे का मुसाफ़िर'
सर्वेश्वरदयाल सकसेना


यह सिमटती साँझ,
यह वीरान जंगल का सिरा,
यह बिखरती रात, यह चारों तरफ सहमी धरा;
उस पहाड़ी पर पहुँचकर रोशनी पथरा गयी,
आख़िरी आवाज़ पंखों की किसी के आ गयी ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
इस महीने
'शून्य कर दो'
विनीत मिश्रा


मुझको फिर से शून्य कर दो
तुम्हारे योग से ही तो पूर्ण हुआ था
फिर भूल गया
मेरा अस्तित्व था नगण्य
तुमसे जुड़े बिन
नए अंकों से मिल कर
मैंने मान लिया था स्वयं को
पूर्ण से भी कुछ अधिक ...
पूरी रचना यहाँ पढें...
अगली प्रस्तुति
शुक्रवार 6 जुलाई को

सूचना पाने के लिए
ईमेल दर्ज़ करें
संग्रह से कोई भी कविता | काव्य विभाग: शिलाधार युगवाणी नव-कुसुम काव्य-सेतु | प्रतिध्वनि | काव्य लेख
आपकी कविता | हमारा परिचय | सम्पर्क करें

a  MANASKRITI  website